33 C
Delhi
Sunday, September 27, 2020

चीन में मुसलमानों पर बढ़े अत्याचार, मस्जिद गिरा कर बना दिया सार्वजनिक शौचालय

चीन में उइगर मुसलमानों पर अत्याचारों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है । कई तरह की पाबंदियां लगाकर उनके मनोबल को भी...

RELATED POST

बेबस पिता का दर्द, ‘मैं गुहार लगाता रहा, पुलिस दुतकारती रही ऐसे कैसे बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाएं’

दबंग खबर | देश में खूब जोरों-शोरों से बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाओ का नारा सुनने को मिलता है। सच भी है। देखा...

बिग बॉस: सलमान के शो में होगा फुलऑन एंटरटेनमेंट, किये जाएँगे ये 13 सबसे बड़े बदलाव

दबंग खबर | कंट्रोवर्सियल शो बिग बॉस का 13वां सीजन सबसे ज्यादा एंटरटेनिंग और मसालेदार होने वाला है. सीजन 13 के 29...

Paytm को 4217 करोड़ का भारी घाटा, आमदनी अठन्नी तो खर्च रुपैया

दबंग खबर | डिजिटल पेमेंट वर्ल्ड की दिग्गज Paytm की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस को 31 मार्च को खत्म पिछले वित्त वर्ष...

गणपति के जयकारे लगाते दिखे तैमूर अली खान, वीडियो वायरल

दबंग खबर | बॉलीवुड स्टार सैफ अली खान और करीना कपूर खान के बेटे तैमूर अली खान पब्लिक के फेवरेट स्टारकिड्स में...

स्मृति ईरानी ने NRC पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कोई भी भारतीय नहीं छूटेगा’

दबंग खबर । केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का विरोध करने पर पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर निशाना साधते...

Yogi Adityanath : ऐसा है संन्यासी से राजनेता बनने वाले सीएम योगी आदित्यनाथ का सियासी सफर

न्यूज़ डेस्क : मार्च 2019 में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने दो साल पूरे करते हुए एक मिसाल पेश की। सरकार ने दावा किया कि उसने अब तक तीन करोड़ लोगों तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाया है। यह एक ऐसे शख्स की बड़ी उपलब्धि है जो पहले योगी था, फिर राजनेता बना और अब अपने काम के बलबूते जननेता बन गया। इसलिए लोगों का कहना है कि उनको सिर्फ संन्यासी या राजनेता कहना तो नाइंसाफी होगी, क्योंकि जननेता की जीवटता और संन्यासी वाले त्याग की वो जीती जागती मिसाल हैं।

जिंदगी की जद्दोजहद का कहकहा उन्होंने दुर्गम पहाड़ों में सीखा और उसको गंगा-यमुना के आंचल में आकर मैदानों में आजमाया। एक संत के रूप में लोगों को आशीर्वाद देते हैं तो जननायक बनकर अपनी प्रजा से वोट भी मांगते हैं। अपने प्रशंसकों की नजर में ऐसा विशाल, सहज, सरल और कई खूबियों को अपने में समाए हैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का व्यक्तित्व। अपनी बुलंद आवाज, बेदाग छवि और सख्त प्रशासक वाली शख्सियत से उन्होंने जनता का दिल जीता और अपने सियासी विरोधियों पर जमकर वार भी किया।

पहाड़ों में सीखी राजनीति और मैदान में लिया संन्यास

उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड में पौड़ी गढ़वाल की यमकेश्वर तहसील के पंचुर गांव में एक गढ़वाली राजपूत परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम आनन्द सिंह बिष्ट और माता का नाम सावित्री देवी है। अपनी माता-पिता के सात बच्चों में वे पांचवे नंबर की संतान हैं।

योगी आदित्यनाथ ने 1977 में टिहरी में गजा के स्थानीय स्कूल में पढ़ाई शुरू की और 1987 में इसी स्कूल से दसवीं की परीक्षा पास की। सन 1989 में इन्होंने ऋषिकेश के श्री भरत मन्दिर इण्टर कॉलेज से इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। 1990 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई करते हुए ये अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए और 1992 में श्रीनगर के हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय से योगी ने गणित में बीएससी की परीक्षा पास की। साल 1993 में योगी की जिंदगी में अहम मोड़ आया और गणित में एमएससी की पढ़ाई के दौरान गुरु गोरखनाथ पर शोध करने के लिए ये गोरखपुर कूच कर गए।

महंत अवैधनाथ से हुआ संपर्क और बन गए योगी

नाथ संप्रदाय के महत्वपूर्ण तीर्थ गोरखपुर में योगी महंत अवैद्यनाथ के संपर्क में आए थे जो इनके पड़ोस के गांव के निवासी और परिवार के पुराने परिचित थे। महंत अवैद्यनाथ के साथ रहते इनका दुनिया से मोह भंग हो गया और ये मोह-माया के बंधन से मुक्त होकर सन्यास की राह पर निकल पड़े। योगी आदित्यनाथ ने महंत अवैद्यनाथ से दीक्षा ले ली और इस तरह से 1994 में भगवा चोला धारण कर वह पूरी तरह संन्यासी बन गए, इस तरह से पहाड़ों के अजय सिंह बिष्ट गोरखपुर आकर योगी आदित्यनाथ हो गए। 12 सितंबर 2014 को गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के ब्रह्मलीन होने के बाद योगी आदित्यनाथ को मंदिर का महंत बनाया गया। उसके बाद योगी को नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार मंदिर का पीठाधीश्वर बना दिया गया।

योगी का सियासी सफर

संन्यास मार्ग पर खुद को तपाने के बाद योगी ने जनसेवा का जिम्मा उठाया और अपने सियासी सफर की शुरूआत की। साल 1998 में योगी आदित्यनाथ ने महज 26 साल की उम्र में अपना पहला चुनाव गोरखपुर से बतौर भाजपा प्रत्याशी लड़ा और जीत दर्ज की। उस वक्त बारहवीं लोक सभा (1998-99) के वे सबसे युवा सांसद थे। इस जीत के बाद योगी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और उनके राजनीतिक सफर ने रफ्तार पकड़ ली।

1999 में ये गोरखपुर से पुनः सांसद चुने गए। साल 2002 में योगी ने हिन्दू युवा वाहिनी का गठन किया और 2004 में तीसरी बार गोरखपुर से जीतकर लोकसभा में पहुंचे। 2009 और 2014 में भी योगी की जीत का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा। इस तरह योगी ने लगातार छह बार भाजपा के लिए गोरखपुर सीट को जीता। 2017 उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव में भाजपा सारे रिकॉर्ड ध्वस्त करते हुए सूबे में भगवा परचम फहरा दिया और इस तरह से 19 मार्च 2017 में उत्तर प्रदेश के बीजेपी विधायक दल की बैठक में योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुनकर मुख्यमंत्री पद सौंपा दिया गया।

गोरखनाथ पीठ का भारतीय जनता पार्टी से पुराना नाता रहा है। योगी आदित्यनाथ के गुरु और गोरखनाथ मठ के पूर्व प्रमुख महन्त अवैद्यनाथ भी भारतीय जनता पार्टी से 1991 तथा 1996 का लोकसभा चुनाव जीत चुके थे।

Latest Posts

किराड़ी के हरसुख ब्लॉक में बिजली कर्मियों ने नंगी तारों को बदला

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा क्षेत्र के हरसुख ब्लॉक के वार्ड 42 में दिल्ली टाटा पावर डिस्ट्रीब्यूशन के कर्मचारियों ने बिजली की समस्या दूर...

किराड़ी: जलभराव बना बड़ी मुसीबत, मकान गिरने से परिवार हुआ बेघर

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में जलभराव और पानी की निकासी की समस्या आम होती जा रही है. किराड़ी विधानसभा की बृज विहार कॉलोनी...

किराड़ी के कर्ण विहार पार्ट 3 में लोगों ने पार्षद रविंद्र भारद्वाज का किया घेराव

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा के वार्ड 41 कर्ण विहार पार्ट 3 में साफ सफाई को लेकर आम आदमी पार्टी के पार्षद रविंद्र भारद्वाज...

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्मा

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्माकेंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 अध्यादेशों का विरोध करने के...

Don't Miss

संसद में अमित शाह ने ओवैसी की जुबान पर लगाया ताला, बीच सदन में आर-पार

लोकसभा में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को और अधिक ताकत देने वाले संशोधन बिल को पेश किया गया और चर्चा शुरु...

मुस्लिम धर्मगुरू ने किया मोदी सरकार के इस फैसले का स्वागत, धन्यवाद भी दिया

जयपुर। केंद्र की मोदी सरकार ने मदरसों में शिक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है और इस फैसले के अनुसार...

जान‍िए क्‍यों महिला ने पकड़ी दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल की शर्ट, बोली- मेरी बात खत्‍म नहीं हुई

नई दिल्ली, दबंग खबर । दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए मेट्रो फ्री करने के बाद से दिल्‍ली में  राजनीतिक...

इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं अरुण जेटली अपने बच्चों के लिए

दबंग खबर | पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को एम्स अस्पताल...

पहले ही टास्क को लेकर लोगो ने कहा बिग बॉस 13 फ्लॉप शो, जमकर किया ट्रोल

दबंग खबर | बिग बॉस 13 के पहले एपिसोड में सेलेब्रिटी एक्सप्रेस में क्या तड़का लगाएंगी, ये जानने के लिए फैंस बेहद...

नोरा फतेही का पछताओगे सॉन्ग हुआ रिलीज, गाने में विक्की को प्यार में धोखा देती दिखाई दी

दबंग खबर । विक्की कौशल (Vicky kaushal) और नोरा फतेही (Nora fatehi) का मोस्ट अवेटेड सॉन्ग 'पछताओगे' (Pachtaoge) रिलीज हो चुका है। इस गाने...

वॉशरूम समझकर यात्री ने खोल दिया पाक विमान का इमरजेंसी डोर, जानिये फिर क्या हुआ…

नई दिल्ली:  पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) की उड़ान में सवार एक महिला यात्री से गलती से विमान...

लुंगी-चप्पल पहनकर गाड़ी चलाने पर नहीं काट सकता कोई चालान, अफवाहों से रहिये सावधान

दबंग खबर | नए मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद से ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं. इस दौरान यह भी...

भूलकर भी महिलायें रात को न करें यह 5 काम, वरना पति के लिए बढ़ जाती है मुसीबत

भारतीय परंपरा में वास्तु शास्त्र का काफी महत्व है। भारत में इसे मानने वाले लोग भी बहुत हैं और जो लोग वास्तु...

लता मंगेशकर ने रानू मंडल को दी ‘सख्त नसीहत’, कही ये बड़ी बातें

दबंग खबर | रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर जिंदगी गुजारने वाली रानू मंडल अब स्टार बन चुकी है। सोशल मीडिया पर हर...
Corona Updates