33 C
Delhi
Wednesday, September 23, 2020

चीन में मुसलमानों पर बढ़े अत्याचार, मस्जिद गिरा कर बना दिया सार्वजनिक शौचालय

चीन में उइगर मुसलमानों पर अत्याचारों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है । कई तरह की पाबंदियां लगाकर उनके मनोबल को भी...

RELATED POST

दिल्ली का आज का COVID19 का रिपोर्ट आ गया, देखे कितने लोगों की मौत और कितने नए संक्रमित हुए

स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को 1,215 नए कोरोनोवायरस के मामले दर्ज किए गए, जो इस दौरान 1.57...

पूरे दिल्ली में अलर्ट: शुरू हुआ झमाझम बारिश, दिन में ही हो गया रात जैसा नजारा, अगले 6 घंटे हैं भारी

देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर में आज सुबह से आकाश में बादल छाए हैं और बारिश होने के साथ ही मौसम...

दिल्ली मेट्रो और कार अब एक ही पीलर पर दौड़ेगी, दिल्ली मेट्रो ने शुरु किया काम, दिल्ली वालों की होगी बल्ले बल्ले

एक नजर पूरी खबर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने 22 किलोमीटर लंबे एयरोसिटी-तुगलकाबाद मेट्रो कॉरिडोर पर काम शुरू...

हरियाणा में विधायकों को करवाना होगा कोरोना टेस्ट, नहीं तो विधानसभा में No Entry

हरियाणा विधानसभा का 26 अगस्त से शुरू होने वाले मानसून सत्र के लिए विधायकों, मंत्रियों, अधिकारियों और पत्रकारों को सदन में प्रवेश...

Amit Shah Hospitalized: कोरोना को मात देने वाले केंद्रीय मंत्री अमित शाह एम्स में भर्ती, अस्पताल ने जारी किया बयान

चार दिन पहले ही कोरोना वायरस संक्रमण को शिकस्त देने वाले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संथान...

ममता बनर्जी बंगाल में बीजेपी के बिछाये जाल में उलझती जा रही हैं!

ममता बनर्जी की मौजूदा मुश्किल ये है कि पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी हो रहा है वो सब बिलकुल उनकी मर्जी के खिलाफ और बीजेपी के मनमाफिक है. ममता बनर्जी ने अगर सूझबूझ से काम नहीं लिया, तो कब बीजेपी की जाल में फंस जाएंगी मालूम भी नहीं चलेगा?

ममता बनर्जी भी उसी रास्ते पर बढ़ने लगीं जिस पर अब तक राहुल गांधी चलते रहे हैं. बीजेपी के कांग्रेस मुक्त अभियान और मिशन बंगाल में बहुत ज्यादा फर्क नहीं है. राहुल गांधी बीजेपी की राह में आसान रोड़ा थे और ममता बनर्जी थोड़ा मुश्किल हैं.

फर्ज कीजिए, ओडिशा की तरह पश्चिम बंगाल में भी विधान सभा के चुनाव आम चुनाव के साथ हुए होते – तो क्या नतीजे वैसे ही होते? ओडिशा के लोक सभा और विधानसभा के नतीजों की तुलना करने पर तो लगता है कि बंगाल का हाल और बुरा हो सकता था.

2016 के चुनाव में बीजेपी का पूरा ध्यान असम पर रहा, मेहनत तो पार्टी ने तब पश्चिम बंगाल, केरल और तमिलनाडु में भी की थी लेकिन वैसी नहीं. इस बार पश्चिम बंगाल और ओडिशा में बीजेपी को फायदा जरूर मिला लेकिन केरल में दाल नहीं गल पायी. बावजूद उसके अब बीजेपी अगले विधानसभा चुनाव की तैयारियों जुट गयी है.

पश्चिम बंगाल में बीजेपी की ताजा सक्रियता 2022 के विधानसभा चुनावों को लेकर ही है. जो हाल हो रखा है, जरूरी नहीं कि तब तक ममता बनर्जी सरकार टिक भी पाये. जिस हिसाब से पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था के हालात होते जा रहे हैं ममता सरकार 2022 तक बनी रहेगी, संदेह पैदा होने लगा है.

2019 के नतीजे ममता बनर्जी के लिए फीडबैक है, जबकि बीजेपी की मेहनत की पैमाइश और मेहनताना. बीजेपी तो बखूबी समझ रही है, मालूम नहीं ममता बनर्जी को ये समझ में नहीं आ रहा है या समझना ही नहीं चाहतीं या फिर समझने के बावजूद स्थिति को संभालना मुश्किल हो रहा है.

आम चुनाव से पहले ममता बनर्जी बीजेपी को केंद्र की सत्ता से भगाने का अभियान चला रही थीं – मुमकिन नहीं हुआ. ठीक वैसे ही बीजेपी पश्चिम बंगाल ने ममता बनर्जी को बेदखल करने की मुहिम चला रही थी – आधी कामयाबी तो मुमकिन हो ही गयी. ये ममता बनर्जी के लिए सबसे बड़ा अलर्ट रहा, लेकिन वो समझ नहीं पायीं. या हो सकता है समझना न चाह रही हों.

क्या बंगाल ममता के हाथ से निकल रहा है?

ऐसा क्यों है कि पश्चिम बंगाल में कुछ भी ममता बनर्जी के मनमुताबिक बिलकुल नहीं – और ठीक उसी वक्त सब कुछ बीजेपी नेतृत्व के मनमाफिक ही हो रहा है?

फिर तो ये मान कर चलना चाहिये कि बीजेपी बंगाल में शानदार एंट्री के बाद पांव भी मजबूती से जमाने लगी है. बीजेपी बंगाल के लोगों को ये बताने में कामयाब होती जा रही है कि उसके कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है – और बंगाल के लोगों की सहानुभूति उसे आसानी से हासिल होती जा रही है. पंचायत चुनावों के बाद एक बार फिर से हिंसा भी वैसा ही रूप लेती जा रही है.

mamata banerjee being trapped by bjp

बीजेपी के बिझाये जाल में उलझती जा रही हैं ममता बनर्जी

लगातार तीन दिन से बंगाल में हिंसा का दौर जारी है –

1. मालदा – 12 जून : पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरे दिन मालदा में तनाव का माहौल बना रहा, बल्कि लगातार बढ़ता ही गया. दो दिन से गायब बीजेपी कार्यकर्ता का शव मिलते ही पार्टी कार्यकर्ता सड़क पर उतर आये.

2. कांकीनारा, 24 परगना – 11 जून : उत्तर 24 परगना जिले के कांकीनारा में बम धमाके में दो लोगों की मौत हो गई थी. चार लोग जख्मी भी हुए थे.

3. आमटा, हावड़ा – 10 जून : हावड़ा के आमटा के सरपोटा गांव में बीजेपी कार्यकर्ता का शव पेड़ से लटकते हुए मिला था. परिवारवालों और बीजेपी नेताओं का आरोप है कि इसके पीछे तृणमूल कांग्रेस का हाथ है.

कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ बीजेपी ने कोलकाता के लाल बाजार में पुलिस मुख्यालय का घेराव किया. प्रदर्शनकारी कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने बल प्रयोग के साथ आंसू गैस के गोले भी दागे. पुलिस मुख्यालय के बाहर बीजेपी का झंडा लहराने वाली पांच महिला कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी ले लिया गया. इससे पहले हावड़ा में 11 जून को बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने सड़क पर लेट कर विरोध प्रदर्शन किया था.

हिंसक घटनाओं को लेकर पहली बार ममता बनर्जी ने भी माना है कि आम चुनाव के बाद राजनीतिक हिंसा हुई है. वैसे ममता बनर्जी का दावा है कि राजनीतिक हिंसा में बीजेपी के सिर्फ दो जबकि टीएमसी के 10 कार्यकर्ताओं की मौत हुई है. चुनाव के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि पश्चिम बंगाल की राजनीतिक हिंसा में बीजेपी के 80 कार्यकर्ताओं की मौत हुई है. पश्चिम बंगाल में मारे गये बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिवारवालों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शपथग्रहण में दिल्ली भी बुलाया गया था.

ममता को राजनीतिक परिपक्वता दिखाने की जरूरत है

हाल ही में पश्चिम बंगाल के गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. ये मुलाकात भी पश्चिम बंगाल के मौजूदा हालात के संदर्भ में ही समझी गयी. राज्यपाल ने 13 जून को हालात की समीक्षा के लिए सर्व दलीय बैठक भी बुलायी है जिसके लिए टीएमसी, बीजेपी, कांग्रेस और वाम दलों को न्योता भेजा गया है.

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी की ही तरह अस्मिता कार्ड भी खेला है. प्रधानमंत्री मोदी अक्सर गुजराती अस्मिता की बात करते रहते हैं. ममता बनर्जी ने बीजेपी नेतृत्व को चेताया है कि वो किसी भी सूरत में बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगी. ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा के अनावरण के बाद ममता बनर्जी ने राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को भी आगाह किया, ‘मैं गवर्नर का सम्मान करती हूं, लेकिन हर संवैधानिक पद की कुछ सीमाएं भी होती हैं. बंगाल को बदनाम किया जा रहा है. अगर आप बंगाल और उसकी संसकृति को बचाना चाहते हैं तो फिर साथ आइए. बंगाल को गुजरात बनाने की योजना है, लेकिन बंगाल गुजरात नहीं है.’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को समझना होगा कि महज इतने भर से काम नहीं चलने वाला. अब तक ममता बनर्जी आंदोलनकारी राजनीति करती आई हैं – ये मौका ममता बनर्जी के राजनीतिक परिपक्वता दिखाने का है. बीजेपी तो अपने मिशन में लगी ही है. सिर्फ सख्त लहजे में या बयानों के जरिये हमले से कुछ नहीं होने वाला – ममता बनर्जी को ऐसे किसी भी कदम से बचना चाहिये जो राजनीतिक तौर पर टीएमसी पर ही भारी पड़े. अब तक यही देखने को मिला है कि ममता बनर्जी बीजेपी के खिलाफ हमेशा ही सख्ती से पेश आती हैं. लिहाजा बीजेपी कोर्ट का रूख करती है. ये सही है कि कोर्ट से भी बीजेपी को फौरन हरी झंडी नहीं मिल जाती या जैसे वो चाहती है नहीं हो पाता लेकिन ममता बनर्जी सरकार की फजीहत जरूर होती है.

1. बीजेपी को रथयात्रा की इजाजत नहीं मिली : 2018 के आखिर में बीजेपी ने व्यापक स्तर पर पश्चिम बंगाल में रथयात्रा का प्लान किया था. ममता बनर्जी की सरकार ने रोक लगा दी. बीजेपी को मदद के लिए कोर्ट जाना पड़ा. कोर्ट ने रथयात्रा तो नहीं निकालने दी लेकिन ममता सरकार के अफसरों को झाड़ पिलाते हुए रैली की अनुमति देने को कहा दिया. रथयात्रा न सही बीजेपी की रैलियां तो हुईं ही – इस दौरान जो भी प्रचार प्रसार हुआ सब ममता बनर्जी के खिलाफ गया. बीजेपी को आम चुनाव में मिली कामयाबी तो सबूत है ही.

2. बीजेपी नेताओं के हेलीकॉप्टर नहीं उतरने दिये : कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड की रैली में ही ममता बनर्जी से ऐलान किया था कि वो बीजेपी नेताओं के हेलीकॉप्टर नहीं उतरने देंगी – जो कहा वो किया भी. फायदा क्या मिला? क्या हेलीकॉप्टर नहीं उतरने देने से किसी को रैली करने से रोक पायीं. जहां संभव हुआ झारखंड के रास्ते बीजेपी नेता पहुंचे ही. रैली भी किये और चुनाव भी जिताये.

3. बीजेपी रैली क्यों नहीं कर सकती? अब भी हाल यही है कि बीजेपी नेताओं की रैली या किसी भी कार्यक्रम को काफी संघर्ष के बाद ही अनुमति मिल पाती है. ममता बनर्जी खुद तो केंद्र की बीजेपी सरकार पर तानाशाही का इल्जाम लगाती हैं – लेकिन जो पश्चिम बंगाल सरकार कर रही है उसके के पीछे क्या दलील देंगी?

हालत तो ये है कि ममता बनर्जी की सारी सख्ती धरी की धरी रह जा रही है – और धीरे धीरे पश्चिम बंगाल पर राजनीतिक पकड़ ढीली पड़ती नजर आ रही है. ये भी समझना मुश्किल हो रहा है कि क्या ममता बनर्जी के सलाहकार ही ऐसे आइडिया देते हैं या ममता बनर्जी उनकी भी एक नहीं सुनतीं?

धीरे धीरे ममता बनर्जी उसी खेल में उलझती जा रही हैं, जिसमें बीजेपी उकसा कर उलझाना चाहती है – ये रवैया रहा तो राष्ट्रपति शासन लगाये जाने की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता. ये सब तो इंदिरा गांधी के जमाने में भी होता ही आया है. बाद में होगा क्या? फिर से सिंगर जैसा आंदोलन खड़ा करने की कोशिश करेंगी. ध्यान रहे, अब न वो जोश है न ऊर्जा. और तो और बंगाल के लोग तो अब ममता का भी शासन भी देख ही चुके हैं – आखिर अब किस ‘पोरिबर्तन’ का सपना दिखाएंगी?

Latest Posts

किराड़ी के हरसुख ब्लॉक में बिजली कर्मियों ने नंगी तारों को बदला

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा क्षेत्र के हरसुख ब्लॉक के वार्ड 42 में दिल्ली टाटा पावर डिस्ट्रीब्यूशन के कर्मचारियों ने बिजली की समस्या दूर...

किराड़ी: जलभराव बना बड़ी मुसीबत, मकान गिरने से परिवार हुआ बेघर

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में जलभराव और पानी की निकासी की समस्या आम होती जा रही है. किराड़ी विधानसभा की बृज विहार कॉलोनी...

किराड़ी के कर्ण विहार पार्ट 3 में लोगों ने पार्षद रविंद्र भारद्वाज का किया घेराव

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा के वार्ड 41 कर्ण विहार पार्ट 3 में साफ सफाई को लेकर आम आदमी पार्टी के पार्षद रविंद्र भारद्वाज...

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्मा

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्माकेंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 अध्यादेशों का विरोध करने के...

Don't Miss

संसद में अमित शाह ने ओवैसी की जुबान पर लगाया ताला, बीच सदन में आर-पार

लोकसभा में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को और अधिक ताकत देने वाले संशोधन बिल को पेश किया गया और चर्चा शुरु...

मुस्लिम धर्मगुरू ने किया मोदी सरकार के इस फैसले का स्वागत, धन्यवाद भी दिया

जयपुर। केंद्र की मोदी सरकार ने मदरसों में शिक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है और इस फैसले के अनुसार...

जान‍िए क्‍यों महिला ने पकड़ी दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल की शर्ट, बोली- मेरी बात खत्‍म नहीं हुई

नई दिल्ली, दबंग खबर । दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए मेट्रो फ्री करने के बाद से दिल्‍ली में  राजनीतिक...

इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं अरुण जेटली अपने बच्चों के लिए

दबंग खबर | पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को एम्स अस्पताल...

पहले ही टास्क को लेकर लोगो ने कहा बिग बॉस 13 फ्लॉप शो, जमकर किया ट्रोल

दबंग खबर | बिग बॉस 13 के पहले एपिसोड में सेलेब्रिटी एक्सप्रेस में क्या तड़का लगाएंगी, ये जानने के लिए फैंस बेहद...

वॉशरूम समझकर यात्री ने खोल दिया पाक विमान का इमरजेंसी डोर, जानिये फिर क्या हुआ…

नई दिल्ली:  पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) की उड़ान में सवार एक महिला यात्री से गलती से विमान...

लुंगी-चप्पल पहनकर गाड़ी चलाने पर नहीं काट सकता कोई चालान, अफवाहों से रहिये सावधान

दबंग खबर | नए मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद से ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं. इस दौरान यह भी...

नोरा फतेही का पछताओगे सॉन्ग हुआ रिलीज, गाने में विक्की को प्यार में धोखा देती दिखाई दी

दबंग खबर । विक्की कौशल (Vicky kaushal) और नोरा फतेही (Nora fatehi) का मोस्ट अवेटेड सॉन्ग 'पछताओगे' (Pachtaoge) रिलीज हो चुका है। इस गाने...

भूलकर भी महिलायें रात को न करें यह 5 काम, वरना पति के लिए बढ़ जाती है मुसीबत

भारतीय परंपरा में वास्तु शास्त्र का काफी महत्व है। भारत में इसे मानने वाले लोग भी बहुत हैं और जो लोग वास्तु...

लता मंगेशकर ने रानू मंडल को दी ‘सख्त नसीहत’, कही ये बड़ी बातें

दबंग खबर | रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर जिंदगी गुजारने वाली रानू मंडल अब स्टार बन चुकी है। सोशल मीडिया पर हर...
Corona Updates