33 C
Delhi
Sunday, October 25, 2020

चीन में मुसलमानों पर बढ़े अत्याचार, मस्जिद गिरा कर बना दिया सार्वजनिक शौचालय

चीन में उइगर मुसलमानों पर अत्याचारों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है । कई तरह की पाबंदियां लगाकर उनके मनोबल को भी...

RELATED POST

बेबस पिता का दर्द, ‘मैं गुहार लगाता रहा, पुलिस दुतकारती रही ऐसे कैसे बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाएं’

दबंग खबर | देश में खूब जोरों-शोरों से बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाओ का नारा सुनने को मिलता है। सच भी है। देखा...

बिग बॉस: सलमान के शो में होगा फुलऑन एंटरटेनमेंट, किये जाएँगे ये 13 सबसे बड़े बदलाव

दबंग खबर | कंट्रोवर्सियल शो बिग बॉस का 13वां सीजन सबसे ज्यादा एंटरटेनिंग और मसालेदार होने वाला है. सीजन 13 के 29...

Paytm को 4217 करोड़ का भारी घाटा, आमदनी अठन्नी तो खर्च रुपैया

दबंग खबर | डिजिटल पेमेंट वर्ल्ड की दिग्गज Paytm की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस को 31 मार्च को खत्म पिछले वित्त वर्ष...

गणपति के जयकारे लगाते दिखे तैमूर अली खान, वीडियो वायरल

दबंग खबर | बॉलीवुड स्टार सैफ अली खान और करीना कपूर खान के बेटे तैमूर अली खान पब्लिक के फेवरेट स्टारकिड्स में...

स्मृति ईरानी ने NRC पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कोई भी भारतीय नहीं छूटेगा’

दबंग खबर । केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का विरोध करने पर पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर निशाना साधते...

विक्रम लैंडर से संपर्क हो या न हो, पर ISRO के नाम दर्ज हो गईं ये 6 उपलब्धियां

दबंग खबर | कहते हैं कि विज्ञान में सफलता और असफलता नहीं होती. सिर्फ प्रयोग होता है. और हर प्रयोग से कुछ नया सीखने को मिलता है. ताकि, अगला प्रयोग और बेहतर हो सके. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (Indian Space Research Organisation – ISRO) का Chandrayaan-2 मून मिशन भी इसरो वैज्ञानिकों के लिए बहुत कुछ सीखाने वाला प्रयोग साबित हुआ है. कई चीजें पहली बार हुई. कई टेक्नोलॉजी पहली बार विकसित की गई. अंतरिक्ष में कक्षा बदलने के दौरान तय गति और तय दूरी में ज्यादा आगे बढ़े. यानी बेहतर ऑर्बिट मैन्यूवरिंग की गई. इससे चंद्रयान-2 के ईंधन को बचाने में मदद मिली. .

आइए…जानते हैं कि इसरो ने इस Chandrayaan-2 मिशन से क्या-क्या सीखा

1. इसरो ने पहली बार बनाया लैंडर और रोवर

रूस ने पहले चंद्रयान-2 के लिए लैंडर देने की बात कही थी, लेकिन उसने कुछ समय बाद मना कर दिया था. इसके बाद इसरो वैज्ञानिकों ने फैसला किया कि वे खुद अपना लैंडर बनाएंगे. अपना रोवर बनाएंगे. इसरो वैज्ञानिकों ने दोनों को बनाया भी. लैंडर और रोवर को बनाने के लिए खुद ही रिसर्च किया. डिजाइन तैयार किया. फिर उसे बनाया. इन सबमें करीब 11 साल लग गए. ये सभी स्वदेशी तकनीक से बनाए गए. रोवर को हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने बनाकर 2015 में ही इसरो को सौंप दिया था. वहीं, विक्रम लैंडर की शुरुआती डिजाइन इसरो के स्पेस एप्लीकेशन सेंटर अहमदाबाद ने बनाया था. बाद में इसे बेंगलुरु के यूआरएससी ने विकसित किया.

2. पहली बार किसी प्राकृतिक उपग्रह पर लैंडर-रोवर भेजा

इसरो ने चंद्रयान-2 से पहले तक किसी उपग्रह पर लैंडर या रोवर नहीं भेजा था. ये पहली बार है कि इसरो के वैज्ञानिकों ने किसी प्राकृतिक उपग्रह पर अपना लैंडर और रोवर भेजा. भले ही विक्रम लैंडर तय मार्ग और तय जगह पर सही से न उतरा हो, लेकिन वह चांद पर है. अगर सब सही रहता तो लैंडर और रोवर अभी चांद के वातावरण, जमीन, रासायनिक गुणवत्ताओं की जांच कर रहा होता. इसरो को चांद की खूबसूरत तस्वीरें मिल रही होतीं.

3. चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहली बार भेजा मिशन

भारत दुनिया का पहला देश है और इसरो दुनिया की पहली स्पेस एजेंसी है, जिसने चांद के दक्षिणी ध्रुव पर अपना यान पहुंचाया है. इससे पहले ऐसा किसी भी देश ने नहीं किया. भले ही मिशन पूरी तरह से सफल न हुआ हो, लेकिन विक्रम लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर अब भी है. इसरो वैज्ञानिक लगातार विक्रम लैंडर से संपर्क स्थापित करने में लगे हैं. ताकि उसे फिर से स्टार्ट करके कुछ प्रयोग करने लायक बनाया जा सके.

4. पहली बार किसी सेलेस्टियल बॉडी पर लैंड करने की तकनीक विकसित की

इसरो वैज्ञानिकों ने पहली बार किसी सेलेस्टियल बॉडी यानी अंतरिक्षीय वस्तु पर अपना यान लैंड कराने कि तकनीक विकसित की. क्योंकि, पृथ्वी को छोड़कर ज्यादातर सेलेस्टियल बॉडी पर हवा, गुरुत्वाकर्षण या वातावरण नहीं है. इसलिए विपरीत परिस्थितियों में किसी अंतरिक्षीच वस्तु पर अपना यान उतारने की तकनीक विकसित करना बड़ी चुनौती थी. लेकिन हमारे वैज्ञानिकों ने यह काम बेहद सटीकता से किया.

5. पहली बार लैंडर-रोवर-ऑर्बिटर को एकसाथ लॉन्च किया

इसरो वैज्ञानिकों ने पहली बार इतने वजन का सैटेलाइट लॉन्च किया. आमतौर पर किसी सैटेलाइट में एक ही हिस्सा होता है. लेकिन, चंद्रयान-2 में तीन हिस्से थे. ऑर्बिटर, विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर. तीनों को एकसाथ इस तरह से जोड़ना था कि चंद्रयान-2 कंपोजिट मॉड्यूल बनकर जीएसएलवी-एमके3 रॉकेट के पेलोड फेयरिंग में आसानी से फिट हो जाए. इस काम में भी हमारे वैज्ञानिकों ने सफलता हासिल की. जबकि, यह काम आसान नहीं होता. आपको रॉकेट के सबसे उपरी हिस्से के आकार के अनुसार ही सैटेलाइट के आकार को बनाना होता है, ताकि उसमें वह फिट हो सके.

6. विशेष प्रकार के कैमरे और सेंसर्स बनाए गए

स्पेस एप्लीकेशन सेंटर अहमदाबाद के वैज्ञानिकों ने ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर के लिए विशेष प्रकार के कैमरे और सेंसर्स बनाए. ये कैमरे चांद की सतह और अंतरिक्ष की तस्वीरें लेने में सक्षम हैं. साथ ही ऐसे सेंसर्स बनाए जो चांद की सतह, तापमान, वातावरण, रेडियोएक्टिविटी आदि की जांच कर सकें. इस काम में अहमदाबाद इसरो सेंटर के ज्यादातर युवा वैज्ञानिक शामिल थे. इस सेंटर से ही ज्यादातर सैटेलाइट्स के सेंसर्स आदि बनते हैं.

Latest Posts

किराड़ी के हरसुख ब्लॉक में बिजली कर्मियों ने नंगी तारों को बदला

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा क्षेत्र के हरसुख ब्लॉक के वार्ड 42 में दिल्ली टाटा पावर डिस्ट्रीब्यूशन के कर्मचारियों ने बिजली की समस्या दूर...

किराड़ी: जलभराव बना बड़ी मुसीबत, मकान गिरने से परिवार हुआ बेघर

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में जलभराव और पानी की निकासी की समस्या आम होती जा रही है. किराड़ी विधानसभा की बृज विहार कॉलोनी...

किराड़ी के कर्ण विहार पार्ट 3 में लोगों ने पार्षद रविंद्र भारद्वाज का किया घेराव

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा के वार्ड 41 कर्ण विहार पार्ट 3 में साफ सफाई को लेकर आम आदमी पार्टी के पार्षद रविंद्र भारद्वाज...

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्मा

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्माकेंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 अध्यादेशों का विरोध करने के...

Don't Miss

संसद में अमित शाह ने ओवैसी की जुबान पर लगाया ताला, बीच सदन में आर-पार

लोकसभा में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को और अधिक ताकत देने वाले संशोधन बिल को पेश किया गया और चर्चा शुरु...

मुस्लिम धर्मगुरू ने किया मोदी सरकार के इस फैसले का स्वागत, धन्यवाद भी दिया

जयपुर। केंद्र की मोदी सरकार ने मदरसों में शिक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है और इस फैसले के अनुसार...

जान‍िए क्‍यों महिला ने पकड़ी दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल की शर्ट, बोली- मेरी बात खत्‍म नहीं हुई

नई दिल्ली, दबंग खबर । दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए मेट्रो फ्री करने के बाद से दिल्‍ली में  राजनीतिक...

नोरा फतेही का पछताओगे सॉन्ग हुआ रिलीज, गाने में विक्की को प्यार में धोखा देती दिखाई दी

दबंग खबर । विक्की कौशल (Vicky kaushal) और नोरा फतेही (Nora fatehi) का मोस्ट अवेटेड सॉन्ग 'पछताओगे' (Pachtaoge) रिलीज हो चुका है। इस गाने...

भूलकर भी महिलायें रात को न करें यह 5 काम, वरना पति के लिए बढ़ जाती है मुसीबत

भारतीय परंपरा में वास्तु शास्त्र का काफी महत्व है। भारत में इसे मानने वाले लोग भी बहुत हैं और जो लोग वास्तु...

इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं अरुण जेटली अपने बच्चों के लिए

दबंग खबर | पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को एम्स अस्पताल...

लुंगी-चप्पल पहनकर गाड़ी चलाने पर नहीं काट सकता कोई चालान, अफवाहों से रहिये सावधान

दबंग खबर | नए मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद से ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं. इस दौरान यह भी...

वॉशरूम समझकर यात्री ने खोल दिया पाक विमान का इमरजेंसी डोर, जानिये फिर क्या हुआ…

नई दिल्ली:  पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) की उड़ान में सवार एक महिला यात्री से गलती से विमान...

पहले ही टास्क को लेकर लोगो ने कहा बिग बॉस 13 फ्लॉप शो, जमकर किया ट्रोल

दबंग खबर | बिग बॉस 13 के पहले एपिसोड में सेलेब्रिटी एक्सप्रेस में क्या तड़का लगाएंगी, ये जानने के लिए फैंस बेहद...

लता मंगेशकर ने रानू मंडल को दी ‘सख्त नसीहत’, कही ये बड़ी बातें

दबंग खबर | रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर जिंदगी गुजारने वाली रानू मंडल अब स्टार बन चुकी है। सोशल मीडिया पर हर...
Corona Updates