33 C
Delhi
Thursday, September 24, 2020

चीन में मुसलमानों पर बढ़े अत्याचार, मस्जिद गिरा कर बना दिया सार्वजनिक शौचालय

चीन में उइगर मुसलमानों पर अत्याचारों का सिलसिला बढ़ता जा रहा है । कई तरह की पाबंदियां लगाकर उनके मनोबल को भी...

RELATED POST

बेबस पिता का दर्द, ‘मैं गुहार लगाता रहा, पुलिस दुतकारती रही ऐसे कैसे बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाएं’

दबंग खबर | देश में खूब जोरों-शोरों से बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाओ का नारा सुनने को मिलता है। सच भी है। देखा...

बिग बॉस: सलमान के शो में होगा फुलऑन एंटरटेनमेंट, किये जाएँगे ये 13 सबसे बड़े बदलाव

दबंग खबर | कंट्रोवर्सियल शो बिग बॉस का 13वां सीजन सबसे ज्यादा एंटरटेनिंग और मसालेदार होने वाला है. सीजन 13 के 29...

Paytm को 4217 करोड़ का भारी घाटा, आमदनी अठन्नी तो खर्च रुपैया

दबंग खबर | डिजिटल पेमेंट वर्ल्ड की दिग्गज Paytm की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस को 31 मार्च को खत्म पिछले वित्त वर्ष...

गणपति के जयकारे लगाते दिखे तैमूर अली खान, वीडियो वायरल

दबंग खबर | बॉलीवुड स्टार सैफ अली खान और करीना कपूर खान के बेटे तैमूर अली खान पब्लिक के फेवरेट स्टारकिड्स में...

स्मृति ईरानी ने NRC पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कोई भी भारतीय नहीं छूटेगा’

दबंग खबर । केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का विरोध करने पर पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर निशाना साधते...

राहुल गांधी के राज में बिखरे हुए विपक्ष को अब कितना साध पाएंगी सोनिया गांधी?

दबंग खबर | कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफा देने के बाद सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष बनीं हैं. पार्टी की कमान ऐसे दौर में उनके हाथ फिर से आई है जब कांग्रेस बुरे दौर से गुजर रही है. यह संयोग है कि जब 1998 में पहली बार पार्टी नेताओं के अनुरोध और दबाव में वह अध्यक्ष बनीं थीं तब भी कांग्रेस की स्थिति खराब थी. उस वक्त पार्टी के पास सिर्फ 141 लोकसभा सदस्य थे. अब जब दूसरी बार पार्टी में जारी संकट के समय उनके हाथ कमान आई है तो सिर्फ 52 लोकसभा सदस्य हैं. सबसे लंबे समय तक अध्यक्ष रहीं सोनिया गांधी के खाते में केंद्र की सत्ता में कांग्रेस को दो बार पहुंचाने का श्रेय जाता है.

सवाल उठ रहा है कि क्या कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद सोनिया गांधी बीजेपी के मुकाबले बिखरे विपक्ष को एकजुट कर सकेंगी. या फिर राहुल गांधी के 20 महीने के कार्यकाल में समन्वय की कमी से कमजोर होते यूपीए को फिर से मजबूत करने में सफल होंगी. सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं कि 2014 में 44 के मुकाबले भले ही राहुल गांधी ने पार्टी को 2019 में 52 सीटें दिलाईं, मगर वो न विपक्ष को एकजुट रख सके और न ही यूपीए के सहयोगी दलों के बीच उचित समन्वय कर उसे मजबूती दे सके. यही वजह रही कि 2019 के लोकसभा चुनाव में ज्यादातर प्रभावी क्षेत्रीय दल कांग्रेस से अलग अपनी ढपली अपना राग अलापते दिखे.

‘विपक्ष के पास नए विचारों का औजार होना चाहिए’

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश कहते हैं कि आज हिंदुत्व और कारपोरेट के गठबंधन की बुनियाद पर खड़ी बीजेपी का विपक्ष तभी मुकाबला कर सकता है, जब उसके पास नए विचारों का औजार हो. जब तक विपक्ष नए विचारों को धरातल पर लागू करने की नई शैली नहीं अपनाएगा, तब तक मौजूदा हिंदुत्व-कारपोरेट गठबंधन की नींव पर खड़ी बीजेपी और केंद्र सरकार को चुनौती नहीं दी जा सकती.

क्या राहुल गांधी के मुकाबले, सोनिया गांधी कांग्रेस के झंडे तले विपक्ष को एकजुट कर सकतीं हैं? इस सवाल पर उर्मिलेश का कहना है कि सोनिया गांधी व्यावहारिक ज्यादा हैं, आइडियोलॉजिकल कम. जबकि राहुल गांधी आइडियोलॉजिकल ज्यादा हैं और व्यावहारिक कम. हो सकता है यूपीए या विपक्ष को मजबूत करने में सोनिया का व्यावहारिक पक्ष काम आए. मगर अध्यक्ष के तौर पर सोनिया और राहुल की तुलना तर्कसंगत नहीं है.

राहुल गांधी कांग्रेस को इन्क्लूसिव (समावेशी) पार्टी बनाना चाहते थे, उन्होंने संगठनात्मक स्तर पर इसकी शुरुआत करने की कोशिश की. नए दौर की नई पार्टी बनाने की दिशा में काम शुरू किया था. यह दीगर है कि वह यह नहीं कर पाए. जहां तक सोनिया की बात है तो आज के और 2004 के हालात अलग थे. तब सत्ता में वाजपेयी की अपने दम वाली बीजेपी सरकार नहीं थी. गठबंधन सरकार के कुछ फैसलों से जनता में निराशा थी, तब आज की तुलना में आरएसएस का उतना ठोस और आक्रामक अभियान नहीं था. हिंदुत्व और कारपोरेट का गठबंधन नहीं था.

वहीं दलित, ओबीसी की राजनीति करने वाले क्षेत्रीय दलों के नेताओं की छवियां पहले इतनी खराब नहीं थीं. इन सब समीकरणों ने तब संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) बनने की राह आसान कर दी. जिससे बीजेपी विरोधी गठबंधन बनाने में सोनिया गांधी को कामयाबी मिली. जबकि राहुल गांधी के समय बीजेपी प्रचंड बहुमत से सत्ता में रही.

2014 से 2019 में कहां पहुंचा यूपीए

2014 का लोकसभा चुनाव जब हुआ था, तब सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष थी. उस दौरान कांग्रेस को सिर्फ 44 सीटें मिलीं थीं, वहीं यूपीए सिर्फ 60 सीटों तक पहुंच सकी थी. जबकि 2019 का लोकसभा चुनाव के वक्त राहुल गांधी अध्यक्ष रहे. इस दौरान कांग्रेस को 52 सीटें मिलीं, वहीं यूपीए की सीटें बढ़कर 91 हो गईं. राहुल गांधी के दौर में कांग्रेस मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सरकार बनाने में सफल रही.

Latest Posts

किराड़ी के हरसुख ब्लॉक में बिजली कर्मियों ने नंगी तारों को बदला

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा क्षेत्र के हरसुख ब्लॉक के वार्ड 42 में दिल्ली टाटा पावर डिस्ट्रीब्यूशन के कर्मचारियों ने बिजली की समस्या दूर...

किराड़ी: जलभराव बना बड़ी मुसीबत, मकान गिरने से परिवार हुआ बेघर

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में जलभराव और पानी की निकासी की समस्या आम होती जा रही है. किराड़ी विधानसभा की बृज विहार कॉलोनी...

किराड़ी के कर्ण विहार पार्ट 3 में लोगों ने पार्षद रविंद्र भारद्वाज का किया घेराव

नई दिल्ली: किराड़ी विधानसभा के वार्ड 41 कर्ण विहार पार्ट 3 में साफ सफाई को लेकर आम आदमी पार्टी के पार्षद रविंद्र भारद्वाज...

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्मा

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्माकेंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 अध्यादेशों का विरोध करने के...

Don't Miss

संसद में अमित शाह ने ओवैसी की जुबान पर लगाया ताला, बीच सदन में आर-पार

लोकसभा में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को और अधिक ताकत देने वाले संशोधन बिल को पेश किया गया और चर्चा शुरु...

मुस्लिम धर्मगुरू ने किया मोदी सरकार के इस फैसले का स्वागत, धन्यवाद भी दिया

जयपुर। केंद्र की मोदी सरकार ने मदरसों में शिक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है और इस फैसले के अनुसार...

जान‍िए क्‍यों महिला ने पकड़ी दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल की शर्ट, बोली- मेरी बात खत्‍म नहीं हुई

नई दिल्ली, दबंग खबर । दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए मेट्रो फ्री करने के बाद से दिल्‍ली में  राजनीतिक...

इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं अरुण जेटली अपने बच्चों के लिए

दबंग खबर | पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को एम्स अस्पताल...

पहले ही टास्क को लेकर लोगो ने कहा बिग बॉस 13 फ्लॉप शो, जमकर किया ट्रोल

दबंग खबर | बिग बॉस 13 के पहले एपिसोड में सेलेब्रिटी एक्सप्रेस में क्या तड़का लगाएंगी, ये जानने के लिए फैंस बेहद...

वॉशरूम समझकर यात्री ने खोल दिया पाक विमान का इमरजेंसी डोर, जानिये फिर क्या हुआ…

नई दिल्ली:  पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) की उड़ान में सवार एक महिला यात्री से गलती से विमान...

लुंगी-चप्पल पहनकर गाड़ी चलाने पर नहीं काट सकता कोई चालान, अफवाहों से रहिये सावधान

दबंग खबर | नए मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद से ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं. इस दौरान यह भी...

नोरा फतेही का पछताओगे सॉन्ग हुआ रिलीज, गाने में विक्की को प्यार में धोखा देती दिखाई दी

दबंग खबर । विक्की कौशल (Vicky kaushal) और नोरा फतेही (Nora fatehi) का मोस्ट अवेटेड सॉन्ग 'पछताओगे' (Pachtaoge) रिलीज हो चुका है। इस गाने...

भूलकर भी महिलायें रात को न करें यह 5 काम, वरना पति के लिए बढ़ जाती है मुसीबत

भारतीय परंपरा में वास्तु शास्त्र का काफी महत्व है। भारत में इसे मानने वाले लोग भी बहुत हैं और जो लोग वास्तु...

लता मंगेशकर ने रानू मंडल को दी ‘सख्त नसीहत’, कही ये बड़ी बातें

दबंग खबर | रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर जिंदगी गुजारने वाली रानू मंडल अब स्टार बन चुकी है। सोशल मीडिया पर हर...
Corona Updates