33 C
Delhi
Wednesday, September 23, 2020

सास-बहू ने 4 साल के मासूम की चढ़ाई थी बलि, अब कोर्ट ने सुनाई ये खौफनाक सजा

बिहार के गोपालगंज में 4 साल के मासूम को न्याय मिल गया। यहां कोर्ट ने दो महिलाओं को फांसी की सजा सुना...

RELATED POST

बेबस पिता का दर्द, ‘मैं गुहार लगाता रहा, पुलिस दुतकारती रही ऐसे कैसे बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाएं’

दबंग खबर | देश में खूब जोरों-शोरों से बेटी पढ़ाएं, बेटी बचाओ का नारा सुनने को मिलता है। सच भी है। देखा...

बिग बॉस: सलमान के शो में होगा फुलऑन एंटरटेनमेंट, किये जाएँगे ये 13 सबसे बड़े बदलाव

दबंग खबर | कंट्रोवर्सियल शो बिग बॉस का 13वां सीजन सबसे ज्यादा एंटरटेनिंग और मसालेदार होने वाला है. सीजन 13 के 29...

Paytm को 4217 करोड़ का भारी घाटा, आमदनी अठन्नी तो खर्च रुपैया

दबंग खबर | डिजिटल पेमेंट वर्ल्ड की दिग्गज Paytm की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस को 31 मार्च को खत्म पिछले वित्त वर्ष...

गणपति के जयकारे लगाते दिखे तैमूर अली खान, वीडियो वायरल

दबंग खबर | बॉलीवुड स्टार सैफ अली खान और करीना कपूर खान के बेटे तैमूर अली खान पब्लिक के फेवरेट स्टारकिड्स में...

स्मृति ईरानी ने NRC पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कोई भी भारतीय नहीं छूटेगा’

दबंग खबर । केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का विरोध करने पर पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर निशाना साधते...

दबंग विशेष : धर्मेंद्र प्रधान यानि एक ऐसे नेता, भरोसा जीतना जिन्हें बखूबी आता है

नई दिल्ली। वर्ष 1984 की बात है। ओडिशा में इंजीनियरिंग के एक विद्यार्थी की हत्या के विरोध में छात्र आंदोलन खड़ा हो गया था। तालचर के एक गांव में पंद्रह सोलह साल का एक बच्चा भी इस हत्या के विरोध में बैनर लेकर आंदोलन में न सिर्फ कूद पड़ा बल्कि अपने गांव में अन्य छात्रों को भी इसके लिए प्रेरित कर रहा था। बौखलाए हुए प्रशासन ने आंदोलन को दबाने के लिए इस बच्चे को जेल में डाल दिया। तीन-चार दिन बाद ही 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा था। लेकिन इस बच्चे का वह दिन भी सलाखों के पीछे बीता। आठ दिनों के बाद उसकी रिहाई हुई। वह बच्चा..यानी आज का धर्मेंद्र प्रधान। मोदी सरकार में लगातार दूसरी बार केंद्रीय मंत्री बने धर्मेंद्र प्रधान का राजनीतिक सफर शायद उसी दिन से शुरू हो गया था और उन्हें वकील बनाने की इच्छा रखने वाले डॉक्टर और बाद में राजनेता बने पिता देबेंद्र प्रधान को भी उसी दिन अहसास हो गया था कि बेटे की राह कुछ और है।


दरअसल प्रधान की जिंदगी कुछ ऐसे नेताओं में गिनी जा सकती है जिसे खून में और घुट्टी में राजनीतिक संस्कार मिला। पहले दादा और फिर पिता का संस्कार हावी हो गया। दादा जी के वक्त तालचर ब्रिटिश सरकार के अधीन एक छोटी सी रियासत थी और प्रधान के दादाजी ने आंदोलन का झंडा उठाया था। विद्रोह की आंधी कुछ इतनी बड़ी थी कि चर्चा ब्रिटेन तक पहुंच गई थी। प्रधान के अंदर भी उसी खून का संचार हो रहा था। देश में पहली राजशाही स्टेट का विलय जो सरदार पटेल ने कराया था वह यही थी। छोटी उम्र में ही प्रधान ने कई बार यह कहानी सुनी थी और आंदोलन का महत्व समझा था।


वह महज दस ग्यारह साल के होंगे जबसे घर में कुशाभाऊ ठाकरे जैसे वरिष्ठ भाजपा नेता व संघ के दूसरे नेताओं का आना जाना रहा। चर्चा देश और प्रदेश की विभिन्न समस्याओं से लेकर जवाहर लाल नेहरू के शुरूआती दर्शन तक पर होती थी। विभिन्न मुद्दों पर तत्कालीन कांग्रेस सरकार की नीतियों की व्याख्या होती थी। तब प्रधान बड़े चाव से इसे सुना करते थे। भाजपा की विचारधारा की घुट्टी तभी मिल गई थी। 1983 में मैट्रिक पास कर कॉलेज पहुंचे तो कुछ दिनों बाद ही एबीवीपी का सदस्यता अभियान शुरू होना था। तत्काल उस अभियान में शामिल हो गए। दो साल बाद ग्रेजुएशन में पहुंचे तब तक राजनीतिक नेतृत्व की इच्छा हिलोरें मारने लगी थीं। पहले ही साल एबीवीपी छात्र संघ चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए खड़े हो गए। कुछ लोगों के लिए प्रधान का यह फैसला चौंकाने वाला था क्योंकि साधारणतया अंतिम वर्ष में जाकर ही कोई अध्यक्ष पद की सोचता था। खैर, चुनाव हुआ और प्रधान एक वोट से बाजी मार गए। दोबारा मतगणना हुई लेकिन नतीजा नहीं बदला। प्रधान का जुझारूपन और कुछ नया करने की क्षमता ने रंग दिखाना शुरू कर दिया था। वह सुबह निकलते, लोगों से मिलते, जेल में जाकर रक्षाबंधन का पर्व मनाते, समाज के लिए ब्लड डोनेशन कैंप आयोजित करते। समाज में एक छवि बनने लगी थी कि छात्र नेता केवल आंदोलन ही नहीं कुछ सकारात्मक भी कर सकता है।


अब तक यह तय हो चुका था कि प्रधान न तो अपने पिता की इच्छा के अनुसार वकील बनेंगे और न ही किसी रोजगार की तलाश में जाएंगे। आगे का रास्ता साफ था- जिस तरह पिता जी सक्रिय राजनीति में आए और बाद में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री बने उसी पथ पर प्रधान को भी आगे बढ़ना था। भाजपा की विचारधारा शुरुआती जीवन में ही पैठ कर गई थी, मशक्कत में कोई कमी नहीं थी लिहाजा सीढ़ियां भी मिलती गईं। करीब पंद्रह साल तक एबीवीपी के साथ जुड़े रहने के बाद 1998 में भाजपा में आए और वर्ष 2000 में विधायक बने। केंद्रीय नेतृत्व ने विधायक के रूप में उनकी परख की और 2004 में लोकसभा के लिए टिकट दे दिया। वह जीत भी गए। संगठन में उनकी विशेषता, नेतृत्व की ओर से दिए गए काम के प्रति समर्पण और जनसंपर्क में विशेष रुचि जैसे कुछ ऐसे गुण थे जिससे प्रधान आगे ही बढ़ते गए। दरअसल जनसंपर्क का महत्व उन्होंने तभी सीख लिया था जब वह कॉलेज में थे। पास के गांव अंगुल में आदित्य प्रसाद सिंह एक वरिष्ठ नेता थे। हालांकि वह विरोधी पार्टी से थे लेकिन प्रधान का लगाव था। उस बार आदित्य प्रसाद चुनाव मैदान में मात खा गए थे, लेकिन जनसंपर्क बनाना और लोगों के बीच उनका आना-जाना बरकरार था। प्रधान चकित थे आखिर अब वह क्यों दौरा कर रहे हैं। तभी उन्होंने समझाया था कि जनसंपर्क केवल हार-जीत का जरिया नहीं है बल्कि हिम्मत और साहस बांटने और बटोरने का माध्यम भी है। प्रधान ने तभी से इसे मूल मंत्र बना लिया। आज वही जनसंपर्क उनकी सबसे बड़ी शक्ति है।


दरअसल आज की भाजपा में प्रधान ऐसे कुछ गिने-चुने नेताओं में शुमार हैं जिसे सरकार और संगठन दोनों में अहम भूमिका मिलती है। बिहार, बंगाल, कर्नाटक, त्रिपुरा, असम, झारखंड जैसे राज्यों में नेतृत्व ने संगठन का काम दिया और अधिकतर उसे पूरा कर लौटे। केंद्र में मंत्री रहते हुए उन्हें अलग-अलग राज्यों में विधानसभा चुनाव की जिम्मेदारी मिली जिसे बखूबी निभाया। कहा जा सकता है कि धर्मेंद्र प्रधान एक ऐसे सैनिक हैं जो अपनी कर्तव्यपरायणता के कारण भरोसे की कसौटी पर हमेशा खरा उतरने में विश्वास रखते हैं।

Latest Posts

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्मा

किसानों से हुई बर्बरता का हिसाब लिया जाएगा -PWD प्रदेशाध्यक्ष जयकिशन शर्माकेंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 अध्यादेशों का विरोध करने के...

महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे को लेकर रिया चक्रवर्ती का नया खुलासा

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के केस की सबसे बड़ी सं’दिग्ध रिया चक्रवर्ती जिसके बारे में आये दिन एक नया खुलासा हो...

न खाता न बही, जो राहुल कहें वही सही, जानिए क्यों कांग्रेस में नहीं तय हो पा रहा कि ‘परिवार’ बचाया जाए या ‘पार्टी’

सुदृढ़ और उर्जावान नेतृत्व की कमी, खेमेबाजी और क्षमता की बजाय चाटुकारिता को मिल रहे प्रश्रय से जूझ रही कांग्रेस की हालत...

भारत-चीन सीमा विवाद पर बोले CDS रावत- बातचीत फेल हुई तो सैन्य कार्रवाई पर विचार

चीफ आफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत ने सोमवार को भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि...

Don't Miss

संसद में अमित शाह ने ओवैसी की जुबान पर लगाया ताला, बीच सदन में आर-पार

लोकसभा में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी को और अधिक ताकत देने वाले संशोधन बिल को पेश किया गया और चर्चा शुरु...

मुस्लिम धर्मगुरू ने किया मोदी सरकार के इस फैसले का स्वागत, धन्यवाद भी दिया

जयपुर। केंद्र की मोदी सरकार ने मदरसों में शिक्षा को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है और इस फैसले के अनुसार...

जान‍िए क्‍यों महिला ने पकड़ी दिल्‍ली के सीएम केजरीवाल की शर्ट, बोली- मेरी बात खत्‍म नहीं हुई

नई दिल्ली, दबंग खबर । दिल्‍ली की केजरीवाल सरकार के द्वारा महिलाओं के लिए मेट्रो फ्री करने के बाद से दिल्‍ली में  राजनीतिक...

इतने करोड़ रुपए की संपत्ति छोड़ गए हैं अरुण जेटली अपने बच्चों के लिए

दबंग खबर | पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को एम्स अस्पताल...

पहले ही टास्क को लेकर लोगो ने कहा बिग बॉस 13 फ्लॉप शो, जमकर किया ट्रोल

दबंग खबर | बिग बॉस 13 के पहले एपिसोड में सेलेब्रिटी एक्सप्रेस में क्या तड़का लगाएंगी, ये जानने के लिए फैंस बेहद...

लुंगी-चप्पल पहनकर गाड़ी चलाने पर नहीं काट सकता कोई चालान, अफवाहों से रहिये सावधान

दबंग खबर | नए मोटर व्हीकल कानून लागू होने के बाद से ताबड़तोड़ चालान काटे जा रहे हैं. इस दौरान यह भी...

वॉशरूम समझकर यात्री ने खोल दिया पाक विमान का इमरजेंसी डोर, जानिये फिर क्या हुआ…

नई दिल्ली:  पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) की उड़ान में सवार एक महिला यात्री से गलती से विमान...

नोरा फतेही का पछताओगे सॉन्ग हुआ रिलीज, गाने में विक्की को प्यार में धोखा देती दिखाई दी

दबंग खबर । विक्की कौशल (Vicky kaushal) और नोरा फतेही (Nora fatehi) का मोस्ट अवेटेड सॉन्ग 'पछताओगे' (Pachtaoge) रिलीज हो चुका है। इस गाने...

भूलकर भी महिलायें रात को न करें यह 5 काम, वरना पति के लिए बढ़ जाती है मुसीबत

भारतीय परंपरा में वास्तु शास्त्र का काफी महत्व है। भारत में इसे मानने वाले लोग भी बहुत हैं और जो लोग वास्तु...

लता मंगेशकर ने रानू मंडल को दी ‘सख्त नसीहत’, कही ये बड़ी बातें

दबंग खबर | रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर जिंदगी गुजारने वाली रानू मंडल अब स्टार बन चुकी है। सोशल मीडिया पर हर...
Corona Updates